Saturday, December 10, 2022
Homeन्यूज़ हिंदीIAS और IPS वाला गाँव: क्या आप जानते हैं इस गांव में...

IAS और IPS वाला गाँव: क्या आप जानते हैं इस गांव में कुल 75 घर हैं और हर घर में IAS और IPS ऑफिसर हैं

IAS और IPS वाला गाँव: आप सभी को मालूम होगा कि भारत की सबसे अच्छी और उच्च पद आईएएस और आईपीएस की है और यह भारत की सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षा होती है।

आईएएस और आईपीएस बनने के लिए यूपीएससी अपना एक एग्जाम कराती है जिसके द्वारा आईएएस और आईपीएस जैसे और भी अधिक है पद होते हैं जिनके द्वारा लोग अधिकारी बनते हैं।

ऐसे में हम एक ऐसे गांव की बात करने जा रहे हैं जिस गांव में 75 घर हैं और हर घर में एक आईएएस और आईपीएस जरूर होते हैं यही नहीं इस गांव में इसरो जैसी संस्थाओं में भी लोग काम करने वाले हैं।

हमारे साथ टेलीग्राम पर जुड़ें
Do you know that there are 75 houses in this village and there are IAS and IPS officers in every house.-min

जौनपुर : जौनपुर जिले के माधोपट्टी गांव के लगभग हर घर में कोई ना कोई आईएएस और आईपीएस है जिला मुख्यालय से 11 किलोमीटर दूर पूर्व में स्थित इस गांव में न केवल आईएएस और आईपीएस बल्कि यहां से निकले युवा भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर, इसरो, मनीला एवं इंटरनेशनल बैंक जैसे संस्थानों में उच्च पदों पर भी पदस्थ हैं।

ऐसा कहा जाने लगा है कि इस गांव में सिर्फ अफसर ही जन्म लेते हैं पूरे जिले में इसे” अफसरों वाला गांव “कहते हैं यहां जन्म लेने वाले व्यक्ति का भविष्य पहले से तय हो जाता है कि वह बड़ा होकर अफसर ही बनेगा माधोपुर पट्टी गांव का एक बड़ा सा प्रवेशद्वार गांव के खास होने का एहसास कराता है यह गांव दूसरे गांव के लिए रोल मॉडल है।

इस माधोपट्टी ग्राम सभा में कुल 75 घर है और कोई घर ऐसा नहीं है जहां कोई अच्छे पोस्ट पर और आईएएस आईपीएस न हो उत्तर प्रदेश समेत आसपास के राज्यों में सेवा दे रहे हैं 47 आईएएस इसी गांव में पैदा हुए हैं।

इस गांव के युवक में प्रतियोगी परीक्षा में अव्वल आने की होड़ सी है अंग्रेजों के जमाने से ही शुरू हो गई थी 1914 में गांव के एक युवक मुस्तफा हुसैन PCS में चुने गए थे ये मशहूर शायर भी रहे वामीक जौनपुरी के पिता थे इसके बाद इंदु प्रकाश सिंह को आईएस की 13वी रैंक हासिल हुई इंदु प्रकाश के सिलेक्शन के बाद गांव के युवाओं में अफसर बनने के लिए होड़ सी लग गई इंदु प्रकाश सिंह फ्रांस सहित कई देशों में भारत के राजदूत भी रहे हैं।

सिरकोनी विकासखंड के इस माधोपट्टी गांव में त्योहारों पर गांव की हर गली में लाल नीली बत्ती वाली गाड़ी ही नजर आती है गांव की आबादी करीब 800 है इस गांव में सबसे ज्यादा संख्या राजपूतों की है खास बात यह है कि इस गांव में कोई भी कोचिंग स्कूल नहीं है।

इसके बावजूद भी कड़ी मेहनत और लगन से स्टूडेंट बुलंदियों को छू रहे हैं माधोपट्टी के बच्चे इंटरमीडिएट से ही IAS और IPS की तैयारी करना शुरू कर देते हैं इस गांव में लोग सिर्फ अफसर बनने का सपना देखते हैं डॉक्टर सर्जन सिंह के अनुसार मुर्तजा हुसैन के ब्रिटिश सरकार के कमीशन बनने के बाद गांव में लोग प्रेरित हुए उन्होंने गांव में अफसर बनने की चेतना जगाई जिनका असर आज पूरे देश में महसूस किया जा रहा है।

सज्जन सिंह का कहना है कि हमारे गांव में शिक्षा की दर बहुत अधिक है और सभी ने स्नातक किया है अब इंतजार रहता है कि अगला आईएएस आईपीएस कौन बनकर आ रहा है।

इस गांव की महिलाएं भी कम नहीं है माधोपट्टी गांव के बेटे ही नहीं बेटियां और बहुआ ने भी गांव के नाम का मान बढ़ाया है 1980 में आशा सिंह, 1982 में उषा सिंह,1983 में हिंदू सिंह, और 1994 में सरिता सिंह आईपीएस बनी थी इसके अलावा अलग-अलग क्षेत्रों में गांव की बहू बेटियों ने नौकरी हासिल की इस गांव के बच्चे भी कई गतिविधियों में शामिल हैं एक स्टूडेंट जो 22 साल के है उनकी किताब भी प्रकाशित हो चुकी है गांव के अजय सिंह वर्ल्ड बैंक में है जानू मिश्रा ISRO में सेवारत हैं

5 IAS वाला अनोखा परिवार

माधोपट्टी गांव में एक ही परिवार के चार भाइयों ने यूपीएससी परीक्षा पास करके अनोखा रिकॉर्ड बनाया था 1955 में परिवार के बड़े बेटे विनय सिंह सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास की थी।

रिटायरमेंट के समय वह बिहार के मुख्य सचिव थे भाई छत्रपाल सिंह और अजय कुमार सिंह 1964 में आईएएस बने 1968 में सबसे छोटे भाई शशिकांत सिंह ने यूपीपीसीएस के परीक्षा पास की थी पांचवा IAS इसी परिवार से मिला 2002 में शशिकांत के बेटे यशस्वी ने यूपीएससी की परीक्षा में 31 वी रैंक हासिल कर आईएएस बने।

इसे भी पढ़ें

हमारे साथ टेलीग्राम पर जुड़ें
News Hindi
News Hindihttps://newshindi.net
यदि आप सभी All Hindi News | Breaking News in Hindi | Hindi Samachar | Latest Jobs in Hindi | Latest PM Yojna के बारे में हर रोज नई-नई जानकारी पढना चाहते हैं तो आप हमारी वेबसाइट NewsHindi.Net पर रेगुलर विजिट कर सकते हैं। हमारा मुख्या लक्ष्य अपने देशवासियों को देश और दुनियां से जुडी Latest News को Hindi में पहुँचाना है। हमारी वेबसाइट पर सबसे अच्छी और विश्वसनीय खबर मिलती है।
सम्बंधित पोस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर पोस्ट